[भगवान प्रेम शायरी] शिव पार्वती प्रेम शायरी हिंदी में [God love shayari ]shiv parvati love shayari in hindi

[God love Shayari ]shiv Parvati love Shayari in Hindi



शिव पार्वती के प्रेम से मै ये सिखता हु कि कैसे प्रेम मे सम्पूर्णता कि भावना होति है ।
वह दोनो एक दूसरे के पूरक है।
प्रेम मे भेद भाव नहि होता ।
प्रेम तो किसी को किसी से हो सकता है ।
जैसे एक राजकुमारी को एक व्यरागी से हुआ था ।
प्रेम एक पवित्र बंधन है ।
जो आत्मिक और अध्यात्मिक रुप से दो लोगो को एक करता है।
इसकी शक्ति हमारे सोच से परे है ।
ये हमे ऐसी कुछ करने कि षमता प्रदान करता है जो करने का हम कभि सोच भि नहि सकते ।
शब्द कम पढ़ जायेंगे मैने इतना कुछ शिखा है जो मै शब्दो मै  बया नहि कर सकता ।


[भगवान प्रेम शायरी] शिव पार्वती प्रेम शायरी हिंदी में [God love shayari ]shiv parvati love shayari in hindi
Image of [भगवान प्रेम शायरी] शिव पार्वती प्रेम शायरी हिंदी में
 [God love shayari ]shiv parvati love shayari in hindi