हरि, hari, Narayan, Laxmi

 
 
हरि डूबे है चिंतन में ।
खोए हुए तन मन में ।
माता लक्ष्मी प्रश्न पूछ रही है ।
उनके उलझन को बूझ रही है ।
प्रभु शैय्या पर विराजे ।
चिंता उनके मुख पर बड़ी है ।
आपदा द्वारे खड़ी है ।
विपदा कि ये घड़ी है ।


By Shivam Kumar Mishra



Comments

Popular posts from this blog

[भगवान प्रेम शायरी] शिव पार्वती प्रेम शायरी हिंदी में [God love shayari ]shiv parvati love shayari in hindi

गंजा, Ganja Shayari, Bald, Baal

नींद की शायरी हिंदी में [ Sleeping Shayari ] in Hindi

[ भोजन ] पर शायरी [ Shayari on food ]

शिव जी शायरी Shiv Ji Shayari

Shiv Parvati Prem Shayari

[गुड मॉर्निंग मोटिवेशनल शायरी] हिंदी में [ Good Morning Motivational Shayari ] in Hindi

[पापा बेटी] शायरी [ Papa Beti ] shayari

शिव-पार्वती, Mahadev, Gauri, Shankar Shakti

corona ki dua, covid, dua pick