Chand Shayari, Chandrama, Chandra, Chand Image, Chandni Raat Photo

 


चाँद  शायरी

 

बहुत दूर है ।

पास होके भि दूर हो ।

बहोत मजबूर हो ।

पास होके भि पास नहीं होते ।

हम चैन से सोकर भि नहीं सोते ।



चाँद कितना दूर है ।

पर हर रोज निकलता है ।

अपने हूर के साथ ।

क्युकी वो नहीं नशे मे चूर ।

गुमान को रखता सदा खुद से दूर ।

उसकी कोई मजबूरी नहीं जो रख सके हमको दूर ।


Chand Shayari, Chandrama, Chandra, Chand Image, Chandni Raat Photo
Chand Image, Chandni Raat Photo
 

By Shivam Kumar Mishra