bewafa, dil tootna, toote ristey

अपना यहाँ कोई नहीं ।

सब यहाँ है सपना ।

आज है कल नहीं ।

जब कोई साथ छोड़ जाता है ।


तो यही सपना रूलाता है ।

कोई अपना ही सब सपना ।

सपना जीने आये है ।

कभी खुशी कभी गम ।

पीने आये है हम ।

किसिका सपना घर हो अपना ।

By Shivam Kumar Mishra

Post a Comment

0 Comments