ekta sahyog, saath, hath, hath Image

साथ बनायें रखिए ।

हाथ बढाये रखिए ।

ये सफर है दोस्ती का ।


दिल्लगी का आशिकी का ।

ज़िंदगी मे बिना किसी के सहयोग के कुछ भि नहीं होता ।


जब तक अपने झूंड के साथ रहता हैं तोता ।

उसे कुछ भि नहीं होता ।

अकेलापन एक अभीसाप है ।

जैसे कोई पाप है ।


एकता मे है शक्ति ।

जब हम साथ हो ।

तो हमे कोई हिला भि नहीं सकता ।

ekta sahyog, saath, hath, hath Image
 hath Image
 

By Shivam Kumar Mishra

Post a Comment

0 Comments