prerna, uchayi, pahaad, pahaad Image

पहाड़ कितना भि उचा क्यू ना हो ।

कभी ना कभी फतेह पा लेता हैं कोई ना कोई ।


ऐसा कोई पहाड़ नहीं ज़िसमे कोई गया नहीं ।

कितने भि उचे क्यू ना हो जाओ ।

अपने पाओ को जमीन पर रखना ।

क्युकी पहाड़ ज़ितना उचा हो ।

उसको फतेह करने पर उतना ही मजा आता हैं ।



prerna, uchayi, pahaad, pahaad Image
pahaad Image
 

By Shivam Kumar Mishra

Comments

Popular posts from this blog

[भगवान प्रेम शायरी] शिव पार्वती प्रेम शायरी हिंदी में [God love shayari ]shiv parvati love shayari in hindi

गंजा, Ganja Shayari, Bald, Baal

नींद की शायरी हिंदी में [ Sleeping Shayari ] in Hindi

[ भोजन ] पर शायरी [ Shayari on food ]

शिव जी शायरी Shiv Ji Shayari

Shiv Parvati Prem Shayari

रोमांटिक शायरी हिंदी में Romantic Shayari in Hindi

[गुड मॉर्निंग मोटिवेशनल शायरी] हिंदी में [ Good Morning Motivational Shayari ] in Hindi

[गुड मॉर्निंग शायरी] हिंदी में मजेदार [ Good Morning Shayari ] in Hindi funny

[पापा बेटी] शायरी [ Papa Beti ] shayari