aatank, dhamaka, aatankvaad

सोच के दिल घबराता है ।

वो कोई कैसे कर जाता है ।

क्या उनके पास दिल नहीं ।

क्या उनका कोई जमीर नहीं ।

जो खून की नदिया बहाता है ।

वो चैन से कैसे सो पाता है ।

धमाका किये जाता है ।

कायरो ने रंग दिया ।

खून से धरती को ।

कितने बच्चो को अनाथ किया ।

कितने औरत को विधवा कर दिया ।

बेहेन से ऊसका भाई छींना ।

माता पीता से उनका तारा ।

भारत माता से उनका प्यारा ।


aatank, dhamaka, aatankvaad
  

By Shivam Kumar Mishra

Comments

Popular posts from this blog

[भगवान प्रेम शायरी] शिव पार्वती प्रेम शायरी हिंदी में [God love shayari ]shiv parvati love shayari in hindi

गंजा, Ganja Shayari, Bald, Baal

नींद की शायरी हिंदी में [ Sleeping Shayari ] in Hindi

शिव जी शायरी Shiv Ji Shayari

[ भोजन ] पर शायरी [ Shayari on food ]

Shiv Parvati Prem Shayari

[गुड मॉर्निंग मोटिवेशनल शायरी] हिंदी में [ Good Morning Motivational Shayari ] in Hindi

[पापा बेटी] शायरी [ Papa Beti ] shayari

शिव-पार्वती, Mahadev, Gauri, Shankar Shakti

corona ki dua, covid, dua pick