insaan, insaaniysat, insaan kavita, kavita in hindi with pick

 

 

insaan, insaaniysat, insaan kavita, kavita in hindi with pick

 

जल ही जीवन है ।

मगर जब उग्र रुप धारन करता है तो जीवन भि ले लेता है ।


इंसान जब सांत हो तो कुछ भि हासिल कर सकता है ।

क्रोधित होने से सब कुछ खत्म हो सकता है ।


साफ जल से कुछ भि किया जा सकता है ।

किंतु दुसित जल किसी काम का नहीं ।

उसी प्रकार स्वस्थ व्यक्ति कुछ भि कर सकता है ।

पर बीमार व्यक्ति कुछ भि नहीं कर सकता ।

insaan, insaaniysat, insaan kavita, kavita in hindi with pick
insaan pick
 

By Shivam Kumar Mishra