insaan, insaaniysat, insaan kavita, kavita in hindi with pick

 

 

insaan, insaaniysat, insaan kavita, kavita in hindi with pick

 

जल ही जीवन है ।

मगर जब उग्र रुप धारन करता है तो जीवन भि ले लेता है ।


इंसान जब सांत हो तो कुछ भि हासिल कर सकता है ।

क्रोधित होने से सब कुछ खत्म हो सकता है ।


साफ जल से कुछ भि किया जा सकता है ।

किंतु दुसित जल किसी काम का नहीं ।

उसी प्रकार स्वस्थ व्यक्ति कुछ भि कर सकता है ।

पर बीमार व्यक्ति कुछ भि नहीं कर सकता ।

insaan, insaaniysat, insaan kavita, kavita in hindi with pick
insaan pick
 

By Shivam Kumar Mishra

Comments

Popular posts from this blog

[भगवान प्रेम शायरी] शिव पार्वती प्रेम शायरी हिंदी में [God love shayari ]shiv parvati love shayari in hindi

गंजा, Ganja Shayari, Bald, Baal

नींद की शायरी हिंदी में [ Sleeping Shayari ] in Hindi

[ भोजन ] पर शायरी [ Shayari on food ]

शिव जी शायरी Shiv Ji Shayari

Shiv Parvati Prem Shayari

रोमांटिक शायरी हिंदी में Romantic Shayari in Hindi

[गुड मॉर्निंग शायरी] हिंदी में मजेदार [ Good Morning Shayari ] in Hindi funny

[गुड मॉर्निंग मोटिवेशनल शायरी] हिंदी में [ Good Morning Motivational Shayari ] in Hindi

[पापा बेटी] शायरी [ Papa Beti ] shayari