ishq, prem, pyaar

 

ishq, prem, pyaar

 

सोचा तो था ।

हम साथ मिलकर ज़िंदगी बितायेंगे ।

पर तुम्हे ये मंजूर न था ।

या कहु की हालात ही कुछ ऐसे थे की तुम्हे मै मंजूर न था ।


हम और तुम ।

तुम और हम ।

साथ रहे हरदम जन्मो जन्म ।

चाहे मुलाकात हो ना हं ।

चाहे फिर बात हो ना हो ।

एक होंके रहेंगे हम ।

By Shivam Kumar Mishra