jawani, Jism, Khubsoorati, Ladki Photo

संभल जाओ जानी ।

ये जवानी लेती कुर्बानी ।

दर्द की कहानी ।

उजारदे ज़िंदगानी ।


ज़िस्म का मेला ।

हर कोई अकेला ।

कोई नहीं शरीफ ।

ज़िस्म से सिर्फ प्रीत ।


संभल के चलना ।

कही पड़ ना जाये जलना ।

खूबसुरती का मजा ।

ज़िंदगी भर मिलती सजा ।


इश्क मोहब्बत कुछ ना यार ।

सब बनाते हवस का शिकार ।

इन गंदी गलियो मे मत आना ।

हमपर मत लूटाना अपना खजाना ।


गलिया बैठी है राज छुपाये 

जिस दिन बोल पड़ी इज्ज़त जाये ।


jawani, Jism, Khubsoorati, Ladki Photo
Ladki  Photo
 
 

By Shivam Kumar Mishra