lekakh, kalam, kaagaj

lekakh, kalam, kaagaj

 

 

लेखक की दुनिया ।

ख्यालो की दुनीया ।

नहीं कोई गुंडे़ बदमाशो की दुनिया ।


का़फी अलग है ये दुनिया ।

ना दुखो की दुनिया ।

ना  दर्द की दुनिया ।

सिर्फ  और सिर्फ है ।

ख्यालो की दुनिया ।

फरेब और झूठो से भरी है 

ये इंसानी दुनिया ।

इस्से अच्छी है मेरी शब्दो कि दुनिया ।



lekakh, kalam, kaagaj
lekakh Image
 

By Shivam Kumar Mishra