jindagi daud, jeevan, bhag

हम सब प्रथम आने की दौड़ मे लगे पड़े है ।

जैसे ये ज़िंदगी कोई रेस हो ।

काल घुड़सवार है ।

और हम सब है घोड़े वो हमे दौड़ाता जा रहा है ।

और जिस दिन ये रेस खत्म हो गयी ।

वो लगाम खिच लेगा ।


By Shivam kumar Mishra



Comments

Popular posts from this blog

[भगवान प्रेम शायरी] शिव पार्वती प्रेम शायरी हिंदी में [God love shayari ]shiv parvati love shayari in hindi

गंजा, Ganja Shayari, Bald, Baal

नींद की शायरी हिंदी में [ Sleeping Shayari ] in Hindi

[ भोजन ] पर शायरी [ Shayari on food ]

शिव जी शायरी Shiv Ji Shayari

Shiv Parvati Prem Shayari

रोमांटिक शायरी हिंदी में Romantic Shayari in Hindi

[गुड मॉर्निंग शायरी] हिंदी में मजेदार [ Good Morning Shayari ] in Hindi funny

[गुड मॉर्निंग मोटिवेशनल शायरी] हिंदी में [ Good Morning Motivational Shayari ] in Hindi

[पापा बेटी] शायरी [ Papa Beti ] shayari