Nasha, daaru, sutta, tambaku

Nasha, daaru, sutta, tambaku

 

तुने अपनी ज़िन्दगी की कमायी ।

शुटेबाजी मे उड़ायी ।

तुम्हे तो पता था वो जेहेर हैं मेरे भाई ।


पढ़ लिख कर भि अनपड़ हैं तु ।

पता नहीं क्यू मैने अपनी बहन की शादी तुझसे करायी ।

धुम्रपान ने ऊसके शुहाग पर ग्रहन लगायी ।



ऊसने अपना सारा जीवन तुझ पे लूटायी ।

तुने ऊसकी एक ना मानी ।

सिर्फ लड़ता गया ।


तंबाकु से प्यार था तुझे ।

और दारू से मोहब्बत ।

इश्क ने तुम्हे बरबाद कर दिया ।

और मेरी बेहना को मिली तनहायी ।

सुधर जा तु ।

अपने घर जा तु ।

आज तु सपत ग्रहन कर ।

आगे कभी ना ऐसा करेगा ।

ना करने देगा ।


nasha, daaru, sutta, tambaku
smoking image
 



By Shivam Kumar Mishra


Comments

Popular posts from this blog

[भगवान प्रेम शायरी] शिव पार्वती प्रेम शायरी हिंदी में [God love shayari ]shiv parvati love shayari in hindi

गंजा, Ganja Shayari, Bald, Baal

नींद की शायरी हिंदी में [ Sleeping Shayari ] in Hindi

शिव जी शायरी Shiv Ji Shayari

[ भोजन ] पर शायरी [ Shayari on food ]

Shiv Parvati Prem Shayari

[गुड मॉर्निंग मोटिवेशनल शायरी] हिंदी में [ Good Morning Motivational Shayari ] in Hindi

[पापा बेटी] शायरी [ Papa Beti ] shayari

शिव-पार्वती, Mahadev, Gauri, Shankar Shakti

corona ki dua, covid, dua pick