prem, ishq, ashiqi, pyaar

prem, ishq, ashiqi, pyaar

 

 

दिमक लगने से लकड़ी खोखली हो जाती हैं ।

जंक लगने से लोहा बेकार हो जाता हैं ।

रौशनी की एक किरन काले घने अंधेरे को निगल लेता हैं ।

ऊसी प्रकार प्रेम रोग जब हो जाता हैं ।

तो ये बीमारी अपने रोगियो को जीते हुए भि जीने नहीं देती ।

प्यार होने से इंसान खोखला हो जाता हैं ।


प्यार का नशा एक बार हो जाये ।

तो फिर ज़िन्दगी भर नहीं उतरता ।

हर नशे की दवा हैं प्यार ।

हर रोग से अलग हैं ये रोग प्रेम रोग ।


prem, ishq, ashiqi, pyaar
 ishq pick
 

By Shivam Kumar Mishra

Comments

Popular posts from this blog

[भगवान प्रेम शायरी] शिव पार्वती प्रेम शायरी हिंदी में [God love shayari ]shiv parvati love shayari in hindi

गंजा, Ganja Shayari, Bald, Baal

नींद की शायरी हिंदी में [ Sleeping Shayari ] in Hindi

[ भोजन ] पर शायरी [ Shayari on food ]

शिव जी शायरी Shiv Ji Shayari

Shiv Parvati Prem Shayari

रोमांटिक शायरी हिंदी में Romantic Shayari in Hindi

[गुड मॉर्निंग मोटिवेशनल शायरी] हिंदी में [ Good Morning Motivational Shayari ] in Hindi

[गुड मॉर्निंग शायरी] हिंदी में मजेदार [ Good Morning Shayari ] in Hindi funny

[पापा बेटी] शायरी [ Papa Beti ] shayari