chal chitra, hindi shayari, shayari in hindi

 chal chitra, hindi shayari, shayari in hindi

 

हम सब एक सिनेमा है ।

ऊपरवाला इसका निर्माता है ।

और वो ही है भाग्य विधाता ।

हम क्यी बार अपने भाग्य से लड़ ज़ाते है ।

और क्यी बार थक कर बैठ ज़ाते है ।

ये सिनेमा क्यी बार होता है लाजवाब ।

तो यही क्यी बार होता है बेनकाब ।

सबकुछ यही प़र झेलना है ।

झख्मो को भि सिलना है ।

chal chitra, hindi shayari, shayari in hindi
theatre image

सिनेमा कला का संसार है ।

कला का घर बार है ।

सिर्फ अभिनेता हि हमे दिखते है ।

ऊसके पिछे एक पूरा परिवार है ।

कभी नही रूकता ये संसार ना शनिवार ना रविवार ।

chal chitra, hindi shayari, shayari in hindi
 cinema image


By Shivam Kumar Mishra


Comments

Popular posts from this blog

[भगवान प्रेम शायरी] शिव पार्वती प्रेम शायरी हिंदी में [God love shayari ]shiv parvati love shayari in hindi

गंजा, Ganja Shayari, Bald, Baal

नींद की शायरी हिंदी में [ Sleeping Shayari ] in Hindi

[ भोजन ] पर शायरी [ Shayari on food ]

शिव जी शायरी Shiv Ji Shayari

रोमांटिक शायरी हिंदी में Romantic Shayari in Hindi

Shiv Parvati Prem Shayari

[गुड मॉर्निंग शायरी] हिंदी में मजेदार [ Good Morning Shayari ] in Hindi funny

[गुड मॉर्निंग मोटिवेशनल शायरी] हिंदी में [ Good Morning Motivational Shayari ] in Hindi

[पापा बेटी] शायरी [ Papa Beti ] shayari